वीर सावरकर कौन थे ? (3898 Views)

१. अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत की स्वतन्त्रता के लिए क्रान्तिकारी अभियान चलाने वाले पहले भारतीय थे वीर-विनायक दामोदर सावरकर|
२. मुद्रित और प्रकाशित होने के पूर्व ही दो शासनों ने जिनकी पुस्तकें ज़ब्त घोषित कर दीं, ऐसे पहले लेखक थे स्वातन्त्र्यवीर सावरकर|
३. भारत की स्वतन्त्रता के लिए संघर्षरत रहने के कारण जिन्हें एक
भारतीय विश्व-विद्यालय की अपनी उपाधि से वंचित होना पडे़, ऐसे पहले स्नातक थे वीर विनायक सावरकर|
४. दो जन्मों का आजीवन कारा-दंड मिलने पर भी उससे बचने के बाद भी क्रियाशील रहे, विश्व के ऐसे पहले राजवंशी थे तात्या सावरकर|
५. ब्रिटिश न्यायालय के अधिकार को अमान्य करने वाले भारत के पहले विद्रोही नेता थे स्वातन्त्र्य वीर सावरकर|
६. राजनिष्ठा की शपथ लेने से इंकार कर देने के कारण जिन्हें बैरिस्टर की उपाधि प्रदान नहीं की गयी, ऐसे पहले भारतीय छात्र थे वीर सावरकर|
७. भारतीय राष्ट्र जीवन को सभी स्तरों पर पुनर्गठित करने पर जिन्होनें गंभीरता से विचार किया और अपनी रत्नागिरी की स्थानबद्धता के काल-खंड में जिन्होने अस्पृश्यता को मिटाने और जातिमुक्त समाज निर्माण के लिए तीव्र अभियान आरंभ किया, ऐसे पहले क्रान्तिकारी नेता थे स्वातन्त्र्यवीर सावरकर|
८. सार्वजनिक सभा में विदेशी कपडो की होली जलाने का साहस दिखाने वाले पहले राजनीतिक नेता थे राष्ट्र-व्रती सावरकर|
९. “संपूर्ण राजनीतिक स्वतंत्रता” ही भारत का ध्येय है, ऐसी साहस-पूर्ण घोषणा करने वाले पहले युग नायक थे सावरकर|
१०. लेखनी और कागज से वंचित होकर भी जिन्होंने काव्य सृजन किया, कविताओं को अंडमान की कालकोठरी की दीवारों पर कांटों से अंकित किया| उनकी यह सहस्र पंक्तियां वर्षों तक स्मरण रखकर बाद में उन्हें अपने सहबंदियों द्वारा स्वदेश पहुंचाने वाले विश्व के पहले कवि थे विनायक दामोदर|
११. विदेशी भूमि पर जिनका बंदी बनाया जाना देश के अन्तर्राष्ट्रीय न्यायालय में प्रतिष्ठा का विशय बनकर उभरा, ऐसे पहले राजबंदी थे सावरकर|
१२. योग की सर्वोच्च परंपरा के अनुसार जिन्होंने “आत्मार्पण” द्वारा मृत्यु का स्वेच्छा से आलिंगन किया ऐसे प्रथम और एकमेव क्रान्तिकारी थे संगठक सावरकर|

Popular Articles