Dated:- February 22, 2012

Posted in:- Vichaar

Posted By:- admin

Views:- 3100 Views

Comments:-  3 comments

Secularism in India

1. There are nearly 52 Muslim Countries. Show One Muslim country which provides Haj subsidy.
2. Show one Muslim country where Hindus are extended the special rights that Muslims are accorded in INDIA.
3. Show one country where the 85% majority craves for the indulgence of the 15% minority.
4. Show one Muslim country which has a Non-Muslim as its President or Prime-Minister.
5. Show one Mullah or Maulvi who has declared a `fatwa` against terrorists.
6. Hindu-majority Maharashtra, Bihar, Kerala, Pondicherry etc. have in past elected Muslims as CM’s,… Can you ever….

Continue reading >>

Dated:- February 8, 2012

Posted in:- Vichaar

Posted By:- admin

Views:- 708 Views

Comments:-  0 comments

280 लाख करोड़

भारतीय गरीब है लेकिन भारत देश कभी गरीब नहीं रहा”* ये कहना है स्विस बैंक के

डाइरेक्टर का. स्विस बैंक के डाइरेक्टर ने यह भी कहा है कि भारत का लगभग 280 लाख करोड़

रुपये उनके स्विस बैंक में जमा है. ये रकम इतनी है कि भारत का आने वाले 30 सालों का बजट

बिना टैक्स के बनाया जा सकता है. या यूँ कहें कि 60 करोड़ रोजगार के अवसर दिए जा सकते है. या यूँ भी कह सकते है कि भारत के किसी भी गाँव से दिल्ली तक 4

Continue reading >>

Dated:- February 5, 2012

Posted in:- Vichaar

Posted By:- admin

Views:- 779 Views

Comments:-  2 comments

मैं ईमानदार हूं

मैं मन्दमोहन सिंह अग्नि कि शपथ लेकर ये केह्ता हूं कि मैं एक ईमानदार व्यक्ति हूं । हमारी नेता श्रीमती सोनिया गांधी तो साक्षात् ईमानदारी की मूर्ति हैं ।
आजकल एक व्यक्ति कोई सुब्रहमन्यम स्वामी है जो चिल्ला-चिल्ला कर हमारी सरकार के दो बहुत ही ईमानदार व्यतियों श्री ए. राजा तथा श्री पी. चिदंम्ब्रम को चोर कह रहा है, वो RSS तथा BJP के साथ मिला हुया है तथा हमारी सरकार के खिलाफ षड्यन्त्र कर रहा है । ये जो झूठे केस ह्मारे नेताओं के खिलाफ चल रहे हैं, ये सब इसी का किया धरा है । हमारे सबसे ईमानदार तथा सच्चे नेता दिग्विजय सिंह के पास इसके साक्षय भी हैं । हम ये सिद्ध कर देंगे कि ह्म ईमानदार है तथा हमारी सरकार देश को राम राज्य बना रही है ।

Continue reading >>

Dated:- January 18, 2012

Posted in:- Stories

Posted By:- admin

Views:- 1324 Views

Comments:-  0 comments

मूर्ख हिंदू

पूर्वी उत्तर प्रदेश में एक शहर है, बहराइच । बहराइच में हिन्दू समाज का सबसे मुख्य पूजा स्थल है गाजी बाबा की मजार। और आप ये जान कर हैरान हो जाएंगे कि मूर्ख हिंदू लाखों रूपये हर वर्ष इस पीर पर चढाते है।

इतिहास का थोडा सा भी जानकार हर व्यक्ति जानता है कि…….. महमूद गजनवी के उत्तरी भारत को १७ बार लूटने व बर्बाद करने के कुछ समय बाद उसका भांजा “सलार गाजी” भारत को “दारूल इस्लाम बनाने के उद्देश्य” से भारत पर चढ़ आया । वह पंजाब ,सिंध, आज के उत्तर प्रदेश को रौंदता हुआ बहराइच तक जा पंहुचा। रास्ते में उसने लाखों हिन्दुओं का कत्लेआम किया , लाखों हिंदू औरतों के बलात्कार हुए, हजारों मन्दिर तोड़ डाले।

राह में उसे एक भी ऐसा हिन्दू वीर नही मिला जो उसका मान मर्दन कर सके और इस्लाम की जेहाद की उस आंधी को रोक सके।

Continue reading >>

Dated:-

Posted in:- Personalities

Posted By:- admin

Views:- 3656 Views

Comments:-  1 comments

स्वामी विवेकानंद

“मैं भविष्यद्रष्टा नहीं हूँ,न मैं उसके लिए चिंतित हूँ। किंतु, एक दृश्य मेरे सामने बिल्कुल स्पष्ट है, कि हमारी प्राचीन मातृभूमि एक बार फिर जाग उठी है। वह नवयौवन प्राप्त कर पहले से कहीं अधिक भव्य दीप्ती के साथ अपने जगद्गुरु के सिंहासन पर आरुढ़ है। समस्त संसार को शांतिपूर्ण और मंगलमय वाणी से उसका संदेश सुनाओ” |

देश परतंत्र है, गरीबी – भुखमरी से जूझ रहा है, लोगो में आत्मविश्वास नहीं है, चारो ओर घोर निराशा का वातावरण है….दूर-दूर तक कोई उम्मीद नहीं..इन सब के बीच स्वामी विवेकानंद की यह भारत द्वारा विश्व नेतृत्व की घोषणा एक आश्चर्य से कम नहीं थी | स्वामी जी स्वतंत्रता की बात नहीं कर रहे उससे एक कदम आगे विश्वविजय की गर्जना कर रहे थे | ‘One step ahead’ स्वामी जी की इस दूरद्रष्टि ने पूरे राष्ट्र में नई चेतना भर दी, लोगो में अपने देश और संस्कृति के प्रति गर्व प्रतिस्थापित हुवा..

Continue reading >>

Dated:-

Posted in:- Stories

Posted By:- admin

Views:- 909 Views

Comments:-  0 comments

देश द्रोही मीडिया

इस देश द्रोही मीडिया का क्या किया जाये ?   किसी मस्जिद की एक ईंट हिलती है तो ये वामपंथी भेष मे छिपी पत्रकारिता हाय तौबा मचा देती है लेकिन जब हिन्दू हितो की बात होती है तो यह मीडिया दंगे न फैलाने का बहाना बनाकर चुप बैठती है |   ऐसी ही एक घटना […]

Continue reading >>

Dated:- January 12, 2012

Posted in:- Vichaar

Posted By:- admin

Views:- 908 Views

Comments:-  0 comments

वर्तमान समय में संघ की आवश्यकता

वर्तमान समय में संघ की आवश्यकता….
….हम सुना करते हैं ”सतत जागरूकता ही स्वतंत्रता का सही मूल्य है ”……तो क्या हमारा राष्ट्र इतना प्रबल इच्छा शक्ति संपन्न और सुसंघठित हो गया है?.क्या हम अपने युवकों के नेत्र में पौरुष और आदर्शवाद की चमक देख सकते हैं??…इसके विपरीत हम अपने युवकों को विदेशी फैशनों की भद्दी नक़ल करते हुए तथा इन्द्रिय विषयोंपभोग में लिप्त देखते हैं….आधुनिकता का अर्थ हो गया है ”स्त्रैणता”…….आज वेष में,स्वभाव में,साहित्य में तरुण पुरुषों का आधुनिक फैशन बना है-अधिकाधिक स्त्रैण रूप में दिखाई पड़ना………..यह खतरे का संकेत है जिसके प्रति हम दुर्लक्ष्य नहीं कर सकते……………हमें कम से कम इतिहास से शिक्षा तो लेनी चाहिए –

Continue reading >>

Dated:- January 9, 2012

Posted in:- Personalities

Posted By:- admin

Views:- 5402 Views

Comments:-  2 comments

Chhatrapati Shivaji

When Hindustan was burning under barbaric attacks by the Mughals and when Hindus were loyally serving the Muslims Adilshahs and Badshahs all over India, there was oppression of women, cows, language and temples.The Sultans had converted the whole country into a slaughterhouse. Hindu society was going towards annihilation under Muslim assaults and the blazing Sun of independence had set. In such adverse conditions, exhibiting great bravery, valour and sacrifice, Chhatrapati Shivaji Maharaj established the independent sovereign Hindavi Swaraj

Continue reading >>

Dated:- January 7, 2012

Posted in:- Stories

Posted By:- admin

Views:- 3270 Views

Comments:-  9 comments

Taj Mahal (A Hindu Temple)

Taj Mahal is not Queen Mumtaz Mahal’s tomb but an ancient Hindu temple palace of Lord Shiva (then known as Tejo Mahalaya).

Shiva temple palace was usurped by Shah Jahan from then Maharaja of Jaipur, Jai Singh.The ex-Maharaja of Jaipur still retains in his secret collection two orders from Shah Jahan for surrendering the Taj building.

Proofs follow below:

1. The term Tajmahal itself never occurs in any mogul court paper or chronicle even in Aurangzeb’s time. The attempt to explain it away asTaj-i-mahal is therefore, ridiculous.

2. The ending “Mahal” is never muslim because in none of the muslimcountries around the world from Afghanistan to Algeria is there….

Continue reading >>

Dated:-

Posted in:- Videos

Posted By:- admin

Views:- 2991 Views

Comments:-  3 comments

Traces of Britishers in Bharat

Continue reading >>

Popular Articles