Dated:- August 11, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 529 Views

Comments:-  0 comments

‘भारत छोड़ो’ आंदोलन पूर्णतः असफल आंदोलन

1942 का ‘भारत छोड़ो’ आंदोलन पूर्णतः असफल आंदोलन था। यह कांग्रेसियों द्वारा गढ़ा एक मिथक है कि इस आंदोलन के कारण ब्रिटिश साम्राज्य की भारत से विदाई हुई थी और भारत स्वतंत्र हुआ था। उस वक्त का समकालीन इतिहास और लोगो के व्यक्तिगत संस्मरण, यही बतलाते है कि इस आंदोलन को सफलता पूर्वक अंग्रेजो ने […]

Continue reading >>

Dated:- July 26, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 508 Views

Comments:-  0 comments

राष्ट्र के विनाश में “गद्दारों” की भूमिका

मुझे इसमें कोई शक नहीं कि भारत “ऋषियों और मुनियों” की “कर्मभूमि” रहा है | इसमें भी कोई शक नहीं के भारत उस समय “विश्व गुरु” था, जब विश्व में दूसरे देशों के लोग “भूखे और नंगे डकैती डालते” हुये घूमा करते थे | इसमें भी कोई शक नहीं कि प्राचीन काल से भारत अध्यात्मिक […]

Continue reading >>

Dated:- June 19, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 577 Views

Comments:-  0 comments

भारत का महान सम्राट अकबर नही महाराणा प्रताप थे

राजस्थान की भूमि वीर प्रसूता रही है इस भूमि पर ऐसे-ऐसे वीरों ने जन्म लिया है जिन्होंने अपने देश की रक्षा में न केवल अपने प्राणों को न्यौछावर कर दिया बल्कि शत्रुदल को भी अपनी वीरता का लोहा मानने पर विवश कर दिया | लेकिन दुर्भाग्य ये रहा की हमारे देश का इतिहास ऐसे मुर्ख […]

Continue reading >>

Dated:- May 31, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 558 Views

Comments:-  0 comments

केरल में गाये को सरेआम काटना

भगवान, अर्जुन को पूरी गीता में हिंसा और युद्ध में फ़र्क़ बताते रहे । हिंसा एक मानसिक स्थिति है, ग़लत है और विनाशकारी है, युद्ध एक व्यवहारिक स्थिति है और यदि धर्म स्थापना के लिए किया जाए तो सत्य है, और कल्याणकारी है । इसलिए, रणचंडी के पुत्रों को हिंसा के तो नहीं पर युद्ध […]

Continue reading >>

Dated:- May 26, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 556 Views

Comments:-  0 comments

KPS Gill

    जब पंजाब में 37000 हिंदुओं की हत्या हो चुकी थी सिख आतंकवाद के दौर में। जब नारे लगते थे मूर्ति,बोदी, टोपी, तीनों जमुना पर। खालिस्तान का झंडा, करेंसी और राष्ट्रपति तक घोषित कर दिया गया था। जब पंजाब में मंदिरों पर बम विस्फोट होते थे, हिंदुओं को बसों दे उतार उतार कर मारा […]

Continue reading >>

Dated:- May 5, 2017

Posted in:- Personalities

Posted By:- Anonymous

Views:- 1307 Views

Comments:-  0 comments

श्री जगतगुरु आदि शंकराचार्य

आदि शकराचार्य आदि शंकराचार्य जी के पिता शिव गुरु जी तैत्तिरीय शाखा के यजुर्वेदी ब्राह्मण थे । उनके विवाह के कई वर्ष बाद भी उनकी से सन्तान नहीं हुई । उन्होंने अपनी पत्नी के साथ से संतान प्राप्ति के लिए कठोर साधना की। अंततः भगवान शंकर ने उन्हें दर्शन दिए और कहा , ” वर […]

Continue reading >>

Dated:- May 2, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 428 Views

Comments:-  0 comments

श्री रामानुजाचार्य

श्रीरामानुजाचार्य का जन्म सन १०१७ ई. में हुआ था । ज्योतिषीय गणना के अनुसार तब सूर्य, कर्क राशि में स्थित था । एक राजपरिवार से सम्बंधित उनके माता-पिता का नाम कान्तिमती और आसुरीकेशव था |   श्रीरामानुजाचार्य ने भक्तिमार्ग का प्रचार करने के लिये सम्पूर्ण भारत की यात्रा की। इन्होंने भक्तिमार्ग के समर्थन में गीता […]

Continue reading >>

Dated:- April 29, 2017

Posted in:- Stories

Posted By:- Vicky Sharma

Views:- 2488 Views

Comments:-  0 comments

पुष्यमित्र शुंग

बात आज से 2100 साल पहले की है। एक किसान ब्राह्मण के घर एक पुत्र ने जन्म लिया। नाम रखा गया पुष्यमित्र। पूरा नाम पुष्यमित्र शुंग। और वो बना एक महान हिन्दू सम्राट जिसने भारत को बुद्ध देश बनने से बचाया। अगर ऐसा कोई राजा कम्बोडिया, मलेशिया या इंडोनेशिया में जन्म लेता तो आज भी […]

Continue reading >>

Dated:- April 28, 2017

Posted in:- Personalities

Posted By:- Anonymous

Views:- 2375 Views

Comments:-  0 comments

पेशवा बाजीराव की दिल्ली विजय

सवाल है कि क्या था शिवाजी का वो सपना, जिसे बाजीराव बल्लाल भट्ट ने पूरा कर दिखाया? दरअसल जब औरंगजेब के दरबार में अपमानित हुए वीर शिवाजी आगरा में उसकी कैद से बचकर भागे थे तो उन्होंने एक ही सपना देखा था, पूरे मुगल साम्राज्य को कदमों पर झुकाने का। हिन्दू मराठाओ कि ताकत का […]

Continue reading >>

Dated:- March 8, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 426 Views

Comments:-  0 comments

महिला दिवस पर विशेष

कुछ ऐसी महान नारियों जिन्होंने नारी की परिभाषा को बदल दिया। गर्व है ऐसी भुदेवणियों पर। 1. रानी लक्ष्मी बाई : झाँसी की रानी। किसी परिचय की मोहताज नही। 1857 में 2 राजाओं राजे नानासाहेब पेशवा और राजे तांत्या टोपे के साथ मिलकर विद्रोह को खड़ा किया और शहीदी ली युद्ध के मैदान में। 2. […]

Continue reading >>

Popular Articles