Category Archives: Vichaar

Dated:- November 30, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 102 Views

Comments:-  0 comments

Somnath Temple

Somnath is not some entertainment park that tourists can visit in their leisure time. The temple is a landmark of Sanatan civilization. Every single ancient temple from western Arabia to Somnath was destroyed by Jihadi invaders who never had any honour in war. Somnath was destroyed too. When Ghazni destroyed Somnath temple, his poets already […]

Continue reading >>

Dated:- October 30, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 209 Views

Comments:-  0 comments

भारत का बुद्ध धर्म

बुद्ध धर्म 2 प्रकार का है; पहला भारत के बाहर और दूसरा भारत के अंदर। अगर आपको भारत के बाहर के बुद्ध धर्म का उदय समझना है तो आपको इस्कॉन को समझना होगा। इस्कॉन श्रीकृष्ण भक्ति के प्रचार की संस्था है। इस्कॉन के सदस्य सिर्फ श्रीकृष्ण को ही ईश्वर मानते हैं और वे किसी अन्य […]

Continue reading >>

Dated:- September 26, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 250 Views

Comments:-  0 comments

मोदी और भारत का प्रभुत्व

अमेरिका के प्रसिद्ध संपादक-लेखक जोसेफ हॉप का प्रसिद्ध अमेरिकी अखबार, न्यूयॉर्क टाइम्ज़ (हिंदी अनुवाद) मोदी के 2002 के गोधरा दंगों के बाद इस व्यक्ति की आश्चर्यजनक जीत जैसे मुर्दा से वोट पाने की कला। इस व्यक्ति से अमेरिका को कई खतरे हैं जो खतरे के साथ हिटलर थे। पर अमेरिका जानता था कि हिटलर उसका […]

Continue reading >>

Dated:- September 22, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 191 Views

Comments:-  0 comments

बहुत पुरानी बात नहीं है

बहुत पुरानी बात नहीं है और यह कोई किस्सा कहानी भी नहीं है | १९९६ में लोकसभा की वह बहस है, जिसके टीवी साक्ष्य यू ट्यूब पर आसानी से उपलब्ध हैं | वाजपेयी जी की १३ दिन की सरकार के बाद कांग्रेस के बाहरी समर्थन से संयुक्त मोर्चा की सरकार बनती है और देवेगौड़ा उसके […]

Continue reading >>

Dated:- August 11, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 280 Views

Comments:-  0 comments

‘भारत छोड़ो’ आंदोलन पूर्णतः असफल आंदोलन

1942 का ‘भारत छोड़ो’ आंदोलन पूर्णतः असफल आंदोलन था। यह कांग्रेसियों द्वारा गढ़ा एक मिथक है कि इस आंदोलन के कारण ब्रिटिश साम्राज्य की भारत से विदाई हुई थी और भारत स्वतंत्र हुआ था। उस वक्त का समकालीन इतिहास और लोगो के व्यक्तिगत संस्मरण, यही बतलाते है कि इस आंदोलन को सफलता पूर्वक अंग्रेजो ने […]

Continue reading >>

Dated:- July 26, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 347 Views

Comments:-  0 comments

राष्ट्र के विनाश में “गद्दारों” की भूमिका

मुझे इसमें कोई शक नहीं कि भारत “ऋषियों और मुनियों” की “कर्मभूमि” रहा है | इसमें भी कोई शक नहीं के भारत उस समय “विश्व गुरु” था, जब विश्व में दूसरे देशों के लोग “भूखे और नंगे डकैती डालते” हुये घूमा करते थे | इसमें भी कोई शक नहीं कि प्राचीन काल से भारत अध्यात्मिक […]

Continue reading >>

Dated:- June 19, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 376 Views

Comments:-  0 comments

भारत का महान सम्राट अकबर नही महाराणा प्रताप थे

राजस्थान की भूमि वीर प्रसूता रही है इस भूमि पर ऐसे-ऐसे वीरों ने जन्म लिया है जिन्होंने अपने देश की रक्षा में न केवल अपने प्राणों को न्यौछावर कर दिया बल्कि शत्रुदल को भी अपनी वीरता का लोहा मानने पर विवश कर दिया | लेकिन दुर्भाग्य ये रहा की हमारे देश का इतिहास ऐसे मुर्ख […]

Continue reading >>

Dated:- May 31, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 409 Views

Comments:-  0 comments

केरल में गाये को सरेआम काटना

भगवान, अर्जुन को पूरी गीता में हिंसा और युद्ध में फ़र्क़ बताते रहे । हिंसा एक मानसिक स्थिति है, ग़लत है और विनाशकारी है, युद्ध एक व्यवहारिक स्थिति है और यदि धर्म स्थापना के लिए किया जाए तो सत्य है, और कल्याणकारी है । इसलिए, रणचंडी के पुत्रों को हिंसा के तो नहीं पर युद्ध […]

Continue reading >>

Dated:- May 26, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 406 Views

Comments:-  0 comments

KPS Gill

    जब पंजाब में 37000 हिंदुओं की हत्या हो चुकी थी सिख आतंकवाद के दौर में। जब नारे लगते थे मूर्ति,बोदी, टोपी, तीनों जमुना पर। खालिस्तान का झंडा, करेंसी और राष्ट्रपति तक घोषित कर दिया गया था। जब पंजाब में मंदिरों पर बम विस्फोट होते थे, हिंदुओं को बसों दे उतार उतार कर मारा […]

Continue reading >>

Dated:- May 5, 2017

Posted in:- Personalities

Posted By:- Anonymous

Views:- 786 Views

Comments:-  0 comments

श्री जगतगुरु आदि शंकराचार्य

आदि शकराचार्य आदि शंकराचार्य जी के पिता शिव गुरु जी तैत्तिरीय शाखा के यजुर्वेदी ब्राह्मण थे । उनके विवाह के कई वर्ष बाद भी उनकी से सन्तान नहीं हुई । उन्होंने अपनी पत्नी के साथ से संतान प्राप्ति के लिए कठोर साधना की। अंततः भगवान शंकर ने उन्हें दर्शन दिए और कहा , ” वर […]

Continue reading >>

Popular Articles