Category: Stories

Great Indian people stories. Some Great hindu people stories. Some great hindus stories.

क्रांतिकारी शहीद बाबा गंगू जी 0

क्रांतिकारी शहीद बाबा गंगू जी

भीमा कोरेगांव के आयोजकों ने पेशवाओं को हराने के लिए अंग्रेजों का साथ दे कर गर्व करते हैं और दूसरी और पेशवा बाजीराव तृतीय के निःसंतान रह जाने के कारण धोड़पत नाना साहब को...

मानव का विकास और दशावतार 0

मानव का विकास और दशावतार

एक माँ अपने पूजा-पाठ से फुर्सत पाकर अपने विदेश में रहने वाले बेटे से विडियो चैट करते वक्त पूछ बैठीं | बेटा! कुछ पूजा-पाठ भी करते हो या नहीं ? बेटा बोला- माँ, मैं...

0

नागचंद्रेश्वर

भारत में नागों के अनेक मंदिर हैं, इन्हीं में से एक है, उज्जैन स्थित नागचंद्रेश्वर का। इस विश्व प्रसिद्ध मंदिर की खास बात यह है कि इसके पट साल में सिर्फ एक दिन नागपंचमी...

पुष्यमित्र शुंग 0

पुष्यमित्र शुंग

बात आज से 2100 साल पहले की है। एक किसान ब्राह्मण के घर एक पुत्र ने जन्म लिया। नाम रखा गया पुष्यमित्र। पूरा नाम पुष्यमित्र शुंग। और वो बना एक महान हिन्दू सम्राट जिसने...

Peshva Bajirao 0

पेशवा बाजीराव की दिल्ली विजय

सवाल है कि क्या था शिवाजी का वो सपना, जिसे बाजीराव बल्लाल भट्ट ने पूरा कर दिखाया? दरअसल जब औरंगजेब के दरबार में अपमानित हुए वीर शिवाजी आगरा में उसकी कैद से बचकर भागे...

0

इतिहास की भूलों से नहीं सीख पाया

जो अपनी इतिहास की भूलों से नहीं सीख पाया , उसे हिन्दू कहते हैं lहम अपने शत्रु का बाल भी बांका नहीं कर सकते l भले ही हम कितने चुनाव जीत ले l छत्रपति...

0

पाक अधिकृत कश्मीर से भगाए गए हिन्दुओं की कथा और व्यथा

भारत पाक वार्ता में जब भी बैठक होती है तब कश्मीर का मुद्दा उठता है l लेकिन भारत ने कभी भी उन कश्मीरी हिन्दुओं का मुद्दा नहीं उठाया , जिन्हें सब से पहले कश्मीर...

0

बाबा तुलसीदासजी

बाबा तुलसीदासजी का जन्म संवत 1589 को उत्तर प्रदेश (वर्तमान बाँदा ज़िला ) के राजापुर नामक ग्राम में हुआ था। इनके पिता का नाम आत्माराम दुबे तथा माता का नाम हुलसी था। इनका विवाह...

0

अमर शहीद रामप्रसाद बिस्मिल की माँ

एक 28 वर्षीय तरूण क्रान्तिकारी को फाँसी की सजा दी गयी । उस क्रान्तिकारी की माँ ने जेल प्रशासन से अपने लाडले पुत्र के अन्तिम संस्कार हेतु शव की मांग की ।

1

इतिहास की अनकही सत्य कहानियां

सरदार वल्लभ भाई पटेल :- ‘‘नेहरू जी आइये रिक्शा में बैठ लीजिए !’’

जवाहर लाल नेहरू :- ‘‘नहीं पटेल जी हम खान साहब से जरूरी बातें कर रहे हैं |’’

सरदार वल्लभ भाई पटेल :- ‘‘ऐसी क्या जरूरी बाते हैं?