Category Archives: Personalities

Indian Personalities

Dated:- May 5, 2017

Posted in:- Personalities

Posted By:- Anonymous

Views:- 785 Views

Comments:-  0 comments

श्री जगतगुरु आदि शंकराचार्य

आदि शकराचार्य आदि शंकराचार्य जी के पिता शिव गुरु जी तैत्तिरीय शाखा के यजुर्वेदी ब्राह्मण थे । उनके विवाह के कई वर्ष बाद भी उनकी से सन्तान नहीं हुई । उन्होंने अपनी पत्नी के साथ से संतान प्राप्ति के लिए कठोर साधना की। अंततः भगवान शंकर ने उन्हें दर्शन दिए और कहा , ” वर […]

Continue reading >>

Dated:- April 28, 2017

Posted in:- Personalities

Posted By:- Anonymous

Views:- 1893 Views

Comments:-  0 comments

पेशवा बाजीराव की दिल्ली विजय

सवाल है कि क्या था शिवाजी का वो सपना, जिसे बाजीराव बल्लाल भट्ट ने पूरा कर दिखाया? दरअसल जब औरंगजेब के दरबार में अपमानित हुए वीर शिवाजी आगरा में उसकी कैद से बचकर भागे थे तो उन्होंने एक ही सपना देखा था, पूरे मुगल साम्राज्य को कदमों पर झुकाने का। हिन्दू मराठाओ कि ताकत का […]

Continue reading >>

Dated:- September 17, 2016

Posted in:- Personalities

Posted By:- Anonymous

Views:- 1743 Views

Comments:-  0 comments

वीर माधवराव पेशवा

भारत के पेशवा बामनों की वीर गाथाएं महान और आत्मा में बिजली सी पैदा कर देने वाली हैं। ऐसा महान इतिहास शायद ही विश्व में किसी अन्य जाति का रहा हो जैसा की पेशवा ब्राह्मणों का। बाजीराव पेशवा, नाना साहेब पेशवा, श्रीमन्त पेशवा, सदाशिव राव पेशवा और कई अन्य।पानीपत की लड़ाई हो या दिल्ली का […]

Continue reading >>

Dated:- August 1, 2013

Posted in:- Personalities

Posted By:- admin

Views:- 3215 Views

Comments:-  1 comments

लोकमान्य तिलक

1894 मे अंग्रेज़ो ने भारत मे एक बहुत खतरनाक कानून बना दिया| उस कानून मे ये था कि किसी भी स्थान 5 भारतीय से अधिक भारतीय इकट्ठे नहीं हो सकते| समूह बनाकर कहीं प्रदर्शन नहीं कर सकते और अगर कोई ब्रिटिश पुलिस का अधिकारी उनको कहीं इकट्ठा देख ले तो आप विश्वास नहीं कर सकते कितनी कड़ी सजा उनको दी जाती थी| उनको कोड़े से मारा जाता था और हाथो से नाखूनो तक को खींच लिया जाता था| 1882 मे भारत के क्रांतिकारी जिनका नाम था बंकिम चंद्र चटर्जी उन्होने एक गीत लिखा था जिसका नाम था वन्देमातरम| तो इस गीत को गाने पर अंग्रेज़ो ने प्रतिबंद लगा दिया और गीत गाने वालों को जेल मे डालने का फरमान जारी कर दिया| तो इन दोनों बातों के कारण लोगो मे अंग्रेज़ो के प्रति बहुत भय आ गया था|

Continue reading >>

Dated:- May 9, 2013

Posted in:- Personalities

Posted By:- admin

Views:- 3555 Views

Comments:-  1 comments

महाराणा प्रताप

भारतभूमि सदैव से ही महापुरुषों और वीरों की भूमि रही है | यहां गांधी जैसे शांति के दूतों ने जन्म लिया है तो साथ ही ताकत और साहस के परिचायक महाराणा प्रताप, झांसी की रानी, भगतसिंह जैसे लोगों ने भी जन्म लिया है | यह धरती हमेशा से ही अपने वीर सपूतों पर गर्व करती रही है. ऐसे ही एक वीर सपूत थे महाराणा प्रताप |

Continue reading >>

Dated:- March 24, 2013

Posted in:- Personalities

Posted By:- admin

Views:- 3424 Views

Comments:-  1 comments

एस. गुरुमूर्ति का लेख

वह चेन्नई से प्रकाशित होने वाले ‘न्यू इंडियन एक्सप्रेस’ के २४ जनवरी के अंक में प्रकाशित हुआ है. विषय मुख्यत: भारत-पाकिस्तान के बीच चलने वाली ‘समझौता एक्सप्रेस’में, भारत में पानिपत में हुए बम विस्फोट और उसके लिए बहुत देर बाद सरकारी जॉंच यंत्रणा ने तथाकथित हिंदू आतंकवादियों को धर दबोचने के बारे में है. वह इस प्रकार है –

Continue reading >>

Dated:- February 26, 2013

Posted in:- Personalities

Posted By:- admin

Views:- 4020 Views

Comments:-  1 comments

वीर सावरकर कौन थे ?

१. अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत की स्वतन्त्रता के लिए क्रान्तिकारी अभियान चलाने वाले पहले भारतीय थे वीर-विनायक दामोदर सावरकर|

२. मुद्रित और प्रकाशित होने के पूर्व ही दो शासनों ने जिनकी पुस्तकें ज़ब्त घोषित कर दीं, ऐसे पहले लेखक थे स्वातन्त्र्यवीर सावरकर|

Continue reading >>

Dated:- February 18, 2013

Posted in:- Personalities

Posted By:- admin

Views:- 2527 Views

Comments:-  0 comments

मदन लाल ढींगरा

मदन लाल ढींगरा का जन्म सन् 1883 में पंजाब में एक संपन्न हिंदू परिवार में हुआ था। उनके पिता सिविल सर्जन थे और अंग्रेज़ी रंग में पूरे रंगे हुए थे परंतु माताजी अत्यन्त धार्मिक एवं भारतीय संस्कारों से परिपूर्ण महिला थीं। उनका परिवार अंग्रेजों का विश्वासपात्र था। जब मदन लाल को भारतीय स्वतंत्रता सम्बन्धी क्रान्ति के आरोप में लाहौर के एक विद्यालय से निकाल दिया गया, तो परिवार ने मदन लाल से नाता तोड लिया। मदन लाल को एक क्लर्क रूप में, एक तांगा-चालक के रूप में और एक कारखाने में श्रमिक के रूप में काम करना पडा। वहाँ उन्होंने एक यूनियन बनाने का प्रयास किया परंतु वहां से भी उन्हें निकाल दिया गया। कुछ दिन उन्होंने मुम्बई में भी काम किया। अपनी बड़े भाई से विचार विमर्श कर वे सन् 1906 में उच्च शिक्षा के लिए इंग्लैड गये जहां ‘यूनिवर्सिटी कॉलेज’ लंदन में यांत्रिक प्रौद्योगिकी में प्रवेश लिया। इसके लिए उन्हें उनके बडे भाई एवं इंग्लैंड के कुछ राष्ट्रवादी कार्यकर्ताओं से आर्थिक सहायता मिली।

Continue reading >>

Dated:- January 23, 2013

Posted in:- Personalities

Posted By:- admin

Views:- 4608 Views

Comments:-  0 comments

सुभाष चंद्र बोस

हमारे देश के इतिहास में ऐसा व्यक्तित्व जो एक साथ महान सेनापति, वीर सैनिक, राजनीति का अद्भुत खिलाड़ी और अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त पुरुषों, नेताओं के समकक्ष साधिकार बैठकर कूटनीतिज्ञ तथा चर्चा करने वाला हो। भारत की स्वतंत्रता के लिए सुभाष चंद्र बोस ने क़रीब-क़रीब पूरे यूरोप में अलख जगाया।

Continue reading >>

Dated:- November 7, 2012

Posted in:- Personalities

Posted By:- admin

Views:- 3789 Views

Comments:-  2 comments

महारानी दुर्गावती

वीरांगना महारानी दुर्गावती कालिंजर के राजा कीर्तिसिंह चंदेल की एकमात्र संतान थीं. महोबा के राठ गांव में 1524 ई0 की दुर्गाष्टमी पर जन्म के कारण उनका नामदुर्गावती रखा गया. नाम के अनुरूप ही तेज, साहस, शौर्य और सुन्दरता के कारण इनकी प्रसिद्धि सब ओर फैल गयी। दुर्गावती के मायके और ससुराल पक्ष की जाति भिन्न थी लेकिन फिर भी दुर्गावती की प्रसिद्धि से प्रभावित होकर राजा संग्राम शाह ने अपने पुत्र दलपत शाह से विवाह करके, उसे अपनी पुत्रवधू बनाया था.

Continue reading >>

Popular Articles