Dated:- February 12, 2019

Posted in:- Uncategorized

Posted By:- Anonymous

Views:- 53 Views

Comments:-  0 comments

झांसी का वारिस

झांसी के अंतिम संघर्ष में महारानी की पीठ पर बंधा उनका बेटा दामोदर राव (असली नाम आनंद राव) सबको याद है. रानी की चिता जल जाने के बाद उस बेटे का क्या हुआ?वो कोई कहानी का किरदार भर नहीं था, 1857 के विद्रोह की सबसे महत्वपूर्ण कहानी को जीने वाला राजकुमार था जिसने उसी गुलाम […]

Continue reading >>

Dated:- February 5, 2019

Posted in:- Uncategorized

Posted By:- Anonymous

Views:- 29 Views

Comments:-  0 comments

‘कन्याभ्रूण’ आखिर ये हत्याएँ क्यों?

बेटा वंश की बेल को आगे बढ़ाएगा,मेरा अंतिम संस्कार कर बुढ़ापे में मेरी सेवा करेगा| यहाँ तक की मृत्यु उपरान्त मेरा श्राद्ध करेगा जिससे मुझे शांति और मोक्ष की प्राप्ति होगी और बेटी, बेटी तो क्या है पराया कूड़ा है जिसे पालते पोसते रहो उसके दहेज की व्यवस्था के लिए अपने को खपाते रहो और […]

Continue reading >>

Dated:- September 18, 2018

Posted in:- Stories

Posted By:- Anonymous

Views:- 211 Views

Comments:-  0 comments

क्रांतिकारी शहीद बाबा गंगू जी

भीमा कोरेगांव के आयोजकों ने पेशवाओं को हराने के लिए अंग्रेजों का साथ दे कर गर्व करते हैं और दूसरी और पेशवा बाजीराव तृतीय के निःसंतान रह जाने के कारण धोड़पत नाना साहब को गोद लिया गया। नाना साहब पेशवा ने अपने विश्वस्त सूबेदार बाबा गंगादीन भंगी को अपने प्रधान पलटन का कर्नल बनाया। बाबा […]

Continue reading >>

Dated:- March 30, 2018

Posted in:- Stories

Posted By:- Anonymous

Views:- 304 Views

Comments:-  0 comments

मानव का विकास और दशावतार

एक माँ अपने पूजा-पाठ से फुर्सत पाकर अपने विदेश में रहने वाले बेटे से विडियो चैट करते वक्त पूछ बैठीं | बेटा! कुछ पूजा-पाठ भी करते हो या नहीं ? बेटा बोला- माँ, मैं एक जीव वैज्ञानिक हूँ । मैं अमेरिका में मानव के विकास पर काम कर रहा हूँ। विकास का सिद्धांत, चार्ल्स डार्विन.. […]

Continue reading >>

Dated:- March 13, 2018

Posted in:- Stories

Posted By:- Anonymous

Views:- 315 Views

Comments:-  0 comments

नागचंद्रेश्वर

भारत में नागों के अनेक मंदिर हैं, इन्हीं में से एक है, उज्जैन स्थित नागचंद्रेश्वर का। इस विश्व प्रसिद्ध मंदिर की खास बात यह है कि इसके पट साल में सिर्फ एक दिन नागपंचमी के दिन ही दर्शन के लिए सिर्फ 24 घंटे के लिए खुलते हैं। इस बार नागपंचमी 28 जुलाई को है। ऐसे […]

Continue reading >>

Dated:- February 27, 2018

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 330 Views

Comments:-  0 comments

दामोदर विनायक सावरकर

दामोदर विनायक सावरकर दुनिया के अकेले ऐसे स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्हें दो-दो आजीवन कारावास की सजा मिली, जिसमे उन्हें 50 साल कालापानी में बिताने थे। दो जन्मों की सजा सुनाये जाने पर भी सावरकर मुस्कराये थे और जज को कहा कि आप ईसाई लोग तो बाइबिल के अनुसार 2 जन्म मानते ही नहीं हैं फिर […]

Continue reading >>

Dated:- January 24, 2018

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 466 Views

Comments:-  0 comments

वीर हकीकत राय

पंजाब के सियालकोट मे जन्में वीर हकीकत राय जन्म से ही कुशाग्र बुद्धि के बालक थे। यह बालक 4-5 वर्ष की आयु मे ही इतिहास तथा संस्कृत आदि विषय का पर्याप्त अध्ययन कर लिया था। 10 वर्ष की आयु मे फारसी पढ़ने के लिये मौलबी के पास भेजा गया, वहॉं के मुसलमान छात्र हिन्दू बालको तथा […]

Continue reading >>

Dated:- January 8, 2018

Posted in:- Uncategorized

Posted By:- Anonymous

Views:- 435 Views

Comments:-  0 comments

The Secret of ancient Indian periods

Most of you will never have a question when the other units of measurement, such as unit-Measuring Unit-Lrb-Meter, km, etc.-RRB-and the unit of measuring weights-Lrb-Gram, kg, etc.-RRB -, 10, 100. What is the difference between 1000 and 60, when the difference is in the unit (such as seconds, minutes, hours, etc.) in the units of […]

Continue reading >>

Dated:- November 30, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 418 Views

Comments:-  0 comments

Somnath Temple

Somnath is not some entertainment park that tourists can visit in their leisure time. The temple is a landmark of Sanatan civilization. Every single ancient temple from western Arabia to Somnath was destroyed by Jihadi invaders who never had any honour in war. Somnath was destroyed too. When Ghazni destroyed Somnath temple, his poets already […]

Continue reading >>

Dated:- October 30, 2017

Posted in:- Vichaar

Posted By:- Anonymous

Views:- 578 Views

Comments:-  0 comments

भारत का बुद्ध धर्म

बुद्ध धर्म 2 प्रकार का है; पहला भारत के बाहर और दूसरा भारत के अंदर। अगर आपको भारत के बाहर के बुद्ध धर्म का उदय समझना है तो आपको इस्कॉन को समझना होगा। इस्कॉन श्रीकृष्ण भक्ति के प्रचार की संस्था है। इस्कॉन के सदस्य सिर्फ श्रीकृष्ण को ही ईश्वर मानते हैं और वे किसी अन्य […]

Continue reading >>

Popular Articles