Save Hinduism Blog

0

हिंदुओं को तिलक क्यों धारण करना चाहिए ?

हमारे दोनों भोहों के मध्य में आज्ञा चक्र होता है , इस चक्र में सूक्ष्म द्वार होता है जिससे इष्ट और अनिष्ट दोनों ही शक्ति प्रवेश कर सकती है , यदि इस सूक्ष्म प्रवेश द्वार को हम सात्त्विक पदार्थ का लेप एक विशेष रूप में दें तो इससे ब्रह्माण्ड में व्याप्त इष्टकारी शक्ति हमारे पिंड में आकृष्ट होती है और इससे हमारा अनिष्ट शक्तियों से रक्षण भी होता है | तिलक लगते समय चन्दन, बुक्का, विभूति , हल्दी-कुमकुम जैसेसात्त्विक पदार्थों का प्रयोग करना चाहिए साथ ही स्त्रीयों ने गोल और पुरुषों ने खड़े तिलक लगाने चाहिए , यदि कोई विशेष संप्रदाय से संबन्धित हो तो उसके अनुसार तिलक लगाना चाहिए |

0

सनातन धर्म में शंख का महत्व

सनातन धर्म में शंख को अत्यधिक पवित्र एवं शुभ माना जाता है । इसका पावन नाद वातावरण को शुद्ध, पवित्र एवं निर्मल करता है। शंख का उपयोग औषधि के रूप में भी किया जाता है । शंख का प्रयोग प्रत्येक शुभ कार्य में किया जाता है । शंख की उत्पत्ति के सम्बन्ध में अनेको कथाये प्रचलित है ।

0

जागो भारतीयो जागो

भोजन से ही हमारे शरीर को कार्य करने की ऊर्जा मिलती है। हमारे देश में हर छोटे से छोटे या बड़े से बड़े कार्य से जुड़ी कुछ परंपराए बनाई गई हैं।
वैसे ही भोजन करने से जुड़ी हुई भी कुछ मान्यताएं हैं। भोजन हमारे जीवन की सबसे आवश्यक जरुरतों में से एक है। खाना ही हमारे शरीर को जीने की शक्ति प्रदान करता है।हमारे पूर्वजो ने जो भी परंपरा बनाई थी उसके पीछे कोई गहरी सोच थी।

0

टोपी फतवे की मुराद

फिल्म अभिनेता रजा मुराद ने किसी के द्वारा मुस्लिम टोपी न पहनने पर तंज कसते हुए कहा कि ‘टोपी पहनने से धर्म भ्रष्ट नहीं होता’। संकेत नरेंद्र मोदी की ओर था। वस्तुतः उन्होंने एक...

0

भारत माँ के चरण कमल

भारत माँ के चरण कमल पर तन मन धन कर दे नौछावर साधक आज प्रतिज्ञा कर ले जननी के इस संकट क्षण पर ॥धृ॥   रुदन कर रहा आज हिमालय सिसक रही गंगा की...

0

WHAT IS SPECIAL ABOUT BEING A HINDU?

By Francois Gautier 1) Believe in God ! – Aastik – Accepted 2) Don’t believe in God ! – You’re accepted as Nastik 3) You want to worship idols – please go ahead. You...

2

Chhatrapati Shivaji

When Hindustan was burning under barbaric attacks by the Mughals and when Hindus were loyally serving the Muslims Adilshahs and Badshahs all over India, there was oppression of women, cows, language and temples.The Sultans had converted the whole country into a slaughterhouse. Hindu society was going towards annihilation under Muslim assaults and the blazing Sun of independence had set. In such adverse conditions, exhibiting great bravery, valour and sacrifice, Chhatrapati Shivaji Maharaj established the independent sovereign Hindavi Swaraj

0

सेतुसमुद्रम परियोजना एक छलावा

जहाजरानी मंत्री टीआर बालू ने स्वयं स्वीकार किया है कि बड़े जहाज श्रीलंका घूमकर पूर्व की भांति ही आएंगे। इस प्रकार नहर मार्ग से केवल छोटे जलयान गुजरेंगे। साफ है कि सारी कसरत बेकार है। जब बड़े जहाजों का पुराने मार्ग से आवागमन होगा तो यह परियोजना क्यों गढ़ी गई? रामसेतु तोड़ने का काम कर रही एक कंपनी ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि परियोजना 22 वर्षो तक घाटा देगी। 23वें वर्ष 624 लाख रुपए की आय की संभावना है। दूसरी निर्माता कंपनी ने अपनी प्रोजेक्ट रिपोर्ट में लिखा है कि यह परियोजना संभावनाओं, अनुमानों पर आधारित है। आय की आशा नकारात्मक है। यह परियोजना सिरे चढ़ी तो मछुआरे भी भुखमरी, बेरोजगारी से व्याकुल होकर खुदकुशी की राह पकड़ सकते है। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जिसे यूपीए सरकार का तमिलनाडु से किया गया पवित्र वायदा मानते हैं वह ‘सेतुसमुद्रम नहर परियोजना’ धार्मिक आचार्यों की नजर में भारत के प्राचीनतम धरोहर का विध्वंस है। इस बारे में भारत सरकार पर अनेक संदेह प्रकट किए जा रहे हैं।